Tuesday, July 4, 2017

चश्में की जरूरत नहीं ,जब मां साथ होती है ...

माँ मोरारीबापू की कही राम कथा सुनती हैं, मैं यूट्यूब पर लगा देती हूँ, आज आर्मी के जवान दिखाई दे रहे हैं एक वीडियो में ,अमरनाथ में कही कथा का वीडियो है, अंत में एक गीत गाया उन्होंने दे दाता के नाम तुझको अल्लाह रखे.... माँ को अचानक कुछ  याद आया बोली - ये "आँखे"फ़िल्म का गीत है,ललिता पंवार थी उसमें ..... "बेन"(उनकी सास यानि मेरी दादी) भोपाल में देख के आए थे, तो आकर मुझसे बोले थे कि जाकर देख के आना, बहुत बढ़िया है....फिर हम गए थे देखने ...

एक याद अच्छी सी .....मेरी याद की अलमारी में सहेजने को जिसे #मायरा तक पहुंचाना है मुझे ......

चश्में की जरूरत नहीं ,जब मां साथ होती है ...

4 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (05-07-2017) को "गोल-गोल है दुनिया सारी" (चर्चा अंक-2656) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सही कहा आपने, प्रणाम माताजी को.
रामराम
#हिन्दी_ब्लॉगिंग

कैप्चा हटा लिजीये प्लीज.
सादर

देवेन्द्र पाण्डेय said...

अच्छी यादों को सहेज कर रखना सुखद है.

Satish Saxena said...

वाह , हार्दिक मंगलकामनाएं !